आखिर महिलाएं पैरो में क्यों नहीं पहनती सोने की पायल आप भी जानें रहस्य !

0
154

हमें पांव में सोना नही पहनना चाहिए इससे हमे परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है 

हिन्दू समाज में काफी सारी मान्यता आज भी विद्यमान है। और यह मान्यता आज से नहीं बल्कि आदिकाल से चली आ रही है। ऐसी ही एक खास मान्यता के बारे में आज हम आपसे चर्चा करने वाला है दरअसल आपने आज तक महिलाओं के पैर में चांदी के ही आभूषण देखे होगें। इसके अलावा आपने अन्य धातु के भी आभूषण देखे होंगे लेकिन क्या कभी आपने इस बात पर गौर किया है कि महिलाऐं सोने के आभूषण अपने पैर में क्यों नहीं पहनती.

शायद इस बात को जानकर आपकी भी उत्सुकता इस रहस्य को जानने के लिए अब तक बढ़ गई होगी. दरअसल महिलाओं द्वारा अपने पैर में सोने के आभूषण न पहनना यह कोई आज से नहीं बल्कि आदिकाल से चला आ रहा है.

सोना पैर में नहीं पहनना चाहिए अगर देखा जाए तो इसका एक वैज्ञानिक कारण भी है दरअसल सोने के आभूषणों की तासीर गर्म होती है वहीं चांदी शीतल होती है। आयुर्वेद के अनुसार मनुष्य का सिर ठंडा और पैर गर्म रहना चाहिए। इसी वजह से सिर पर सोना और पैर में चांदी के आभूषण धारण करना उचित माना जाता है। सिर में सोना पहनने से उससे उत्पन्न ऊर्जा आपके पैरों में और पैरों में चांदी पहनने से उत्पन्न ऊर्जा सिर में जाती है जिससे शरीर का तापमान संतुलित रहता है इसलिए सोने को कभी पैरों में नही पहना जाता है.

पैरों में चांदी के आभूषण से फायदा

पैर में चांदी की पायल पहनने से पीठ, एड़ी, घुटनों के दर्द और हिस्टीरिया रोगों से राहत मिलती है। सिर और पांव दोनों में सोने के आभूषण पहनने से मस्तिष्क और पैर दोनों में समान गर्म ऊर्जा प्रवाहित होगी, जिससे इंसान रोगग्रस्त हो सकता है। पायल, चांदी की होनी चाहिए क्योंकि ये हमेशा पैरों से रगड़ाती रहती है जो स्त्रियों की हड्डियों के लिए काफी फ़ायदेमंद है। इससे उनके पैरों की हड्डी को मज़बूती मिलती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here