BHU में क्या हुआ ? खोल दी इस छात्र ने सभी की पोल ! सरकार के खिलाफ हो रहा है षड्यंत्र?

0
109

मोदी सरकार के खिलाफ खेली जा रही है सबसे बड़ी साजिस जिसमें शामिल है देश के वामपंथी,मोदी विरोधी पत्रकार कांग्रेसी.आज उन सभी की पोल हम खोलने जा रहे हैं जिसे देख आप भी दंग रह जाओगे,BHU में कैसे लड़कियों के धरने को हिंसक बना दिया गया ताकि सरकार को बदनाम किया जा सके  !

यूपी की BHU में जो कुछ हुआ सबने देखा कैसे छात्र आंदोलन अचानक हिंसक हुआ और फिर उसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा.BHU में महिला छात्र के साथ छेड़खानी को लेकर सारा हल्ला हुआ था जिसके बाद छात्र धरने पर बैठ गए थे.पुलिस द्वारा छात्रों पर लाठी चार्ज हुआ जिसकी हम निंदा करते हैं लेकिन मोदी विरोधियों ने सरकार के खिलाफ चाल चलते हुए किसी और मामले में घायल युवती की फोटो को उठा बीजेपी पर हमला किया और इसमें आम आदमी पार्टी के बड़े नेता भी शामिल थे लेकिन जैसे ही इन सभी के झूठ की पोल खुली तो इन लोगों ने ट्वीट डिलीट कर दिए लेकिन उससे पहले लोग उनके ट्वीट के स्क्रीन शॉट ले चुके थे.

देखे कैसे मोदी विरोधी पत्रकार और नेताओं ने ये फर्जी ट्वीट किये उनके स्क्रीन शॉट खुद आप पार्टी छोड़ चुके नेता ने डाले हैं.

दूसरा सबूत आप नेता क्या कर रहा है छात्रों के बीच BHU में ?साथ ही कांग्रेसी सपा नेता कल राजनितिक रोटियां सेकने पहुंचे थे वहां.

प्रशांत भूषण जो जिहादी रहोंगिया मुसलमानों की पैरवी कर रहा है उसकी करतूत भी देख लो.


काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एक दिन पहले हुई हिंसा का सच अब सामने आने लगा है. यह बात साफ हो गई है कि छेड़खानी के खिलाफ छात्राओं के आंदोलन को एक साजिश के तहत हिंसा की आग में झोंक दिया गया. इसके पीछे साफ तौर पर कैंपस में सक्रिय नक्सली वामपंथी गिरोह शामिल हैं. इन्हें समाजवादी पार्टी, कांग्रेसी और आम आदमी पार्टी की तरफ से खुला सपोर्ट मिल रहा है. मीडिया भी इस सोची-समझी साजिश का हिस्सा रहा. क्योंकि उन्होंने इस पूरे आंदोलन का दूसरा पहलू कभी सामने नहीं आने दिया.

बीएचयू में कानून की पढ़ाई कर रही एकता सिंह नाम की छात्रा ने सोशल मीडिया के जरिए सच को सबके सामने लाने की हिम्मत दिखाई.उन्होंने एक के बाद एक फेसबुक पर कई पोस्ट के जरिए सारी सच्चाई देश के आगे रख दी.इसके लिए उन्हें भी धमकियों और गालियों का शिकार बनना पड़ा.हॉस्टल के बाहर एक छात्रा से छेड़खानी का मामला सामने आने के बाद एकता ने ही लड़कियों को एकजुट करके विरोध में आवाज बुलंद करने का फैसला किया था। 

देखे इस छात्र का दूसरा पोस्ट.

यहां तक कि सच सामने लाने के गुनाह में उन्हें बीएचयू प्रशासन की तरफ से भी कार्रवाई का सामना करना पड़ रहा है।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here