ये है दुनिया का सबसे खूंखार राष्ट्रपति, खाता था इंसानों का मांस, इसकी क्रूरता की कहानियां सुनकर दंग रह जाएंगे आप

0
567

दुनिया में अलग-अलग दौर में कई खूंखार और जालिम तानाशाह हुए हैं, जिनके जुल्मों की कहानी रोंगटे खड़े कर देती है. कोई तानाशाह अकेले छह लाख लोगों को मौत के घाट उतार देता है, तो कोई तानाशाह अपने ही लोगों पर जहरीली गैस छोड़ देता है.

कोई महज मुंह खोलने पर सामने वाले को तोप से उड़ा देता है या फिर बदन से सारे कपड़े उतरवाकर भूखे कुत्तों का निवाला बनने छोड़ देता है. दुनिया में तानाशाहों और तानाशाही का एक लंबा इतिहास रहा है जब भी क्रूर शासकों की बात आती है तो सबसे पहले ज़ेहन में हिटलर का नाम आता है हिटलर एक निर्दयी शासक था इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन एक और शासक भी ऐसा है जिसके ज़िक्र के बिना क्रूर शासकों की बात पूरी नहीं हो सकती. ये है युगांडा का तानाशाह ईदी अमीन, युगांडा का यह क्रूर शासक बुचर ऑफ अफ्रीका के नाम से भी जाना जाता है

 

युगांडा का तानाशाह ईदी अमीन 20 वीं सदी के अंत में क्रूर तानाशाहों की श्रेणी में शामिल हो गया। ईदी ने सत्ता के लालच में युगांडा के 1 लाख से ज्यादा निर्दोष लोगों को मौत के घाट उतारा था.विश्व के बदनाम कातिलों में शामिल ईदी अमीन ने 8 सालों तक राष्ट्रपति के रूप में शासन किया और अपने शासन काल में लोगों पर इतने ज़ुल्म ढाएं, जनता को इतनी यातनाएं दी कि सुनने वालों की आंखे आज भी नम हो जाए.

image credit

आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि यह शख्स इतना क्रूर था कि यह इंसान का मांस खा जाता था. सिर्फ इतना ही नहीं इनके फ्रिज में इंसानों के कटे हुए सर और अन्य अंग बरामद किए गए थे. अब आप यह बात सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे हो सकता  है और कोई शक्स कितना क्रूर कैसे हो सकता है. लेकिन आपको बता दें कि यह बात बिल्कुल सच है इस इंसान की क्रूरता और पागलपन इतने चरम पर थी कि इसे मैड मैन ऑफ अफ्रीका भी कहा जाता था.

इस व्यक्ति ने कूरता की सारी हदों को पार कर दिया था यह अपनी हवस पूरी करने के लिए लड़कियों को जबरन उठा लिया करता था और उनकी हत्या करने के बाद उनको जिंदा गाड़ दिया करता था या फिर भूखे मगरमच्छों के आगे फेंक दिया करता था. यह माना जाता है कि यह सिर्फ तानाशाह नहीं यह एक आदमखोर हैवान था. सत्ता का लालच उसके सिर पर कुछ इस तरह सवार हुआ कि वो इंसानियत ही भूल बैठा. वो किसी की भी नहीं सुनता था, बस अपने मन की करता था. फिर चाहे वो सही हो या गलत और जो कोई भी उसके रास्ते में आता था वो उसे भी तबाह कर देता था.

1979 में तंजानिया और अमीन विरोधी युगांडा सेना ने अमीन के शासन को जड़ से उखाड़ फेंका. इसके बाद उसकी तानाशाही समाप्त हो चुकी थी 2003 में उसकी मौत हो गई लेकिन आज भी उसकी क्रूरता के किस्से सुनकर लोग सहम उठते हैं

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here