BREAKING NEWS : धारा 370 पर अब तक की सबसे बड़ी खबर,उडी देश के सेक्युलर राजनेताओं की नीद मचा हडकंप !

0
108

कांग्रेस सहित दुसरे नेताओं को आज नींद नहीं आने वाली बीजेपी अपने राष्ट्रवादी मुद्दे पर कई कदम आगे बढ़ चुकी है धारा 370 से पहले बीजेपी ने आर्टिकल 35A पर अपना डंडा चलाने का काम शुरू कर दिया है लेकिन उससे पहले धारा 370 का मुद्दा अब जा पहुंचा है कोर्ट !

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर में लगे आर्टिकल 370 पर दायर की गई एक याचिका स्वीकार कर ली है. इसमें आर्टिकल 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को दिए जा रहे स्पेशल ग्रांट को चैलेंज किया गया है.इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर नोटिस जारी किया है.साथ ही याचिका में ये भी मांग की गई है कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाई जाए और वहां लागू अलग संविधान को भी अघोषित किया जाए.

अब मामला कोर्ट में है और कोई बीजेपी पर ऊँगली नहीं कर सकता बीजेपी कोर्ट में खुलकर धारा 370 के खिलाफ अपनी रिपोर्ट देने वाली है तभी तो कश्मीर के नेताओं में अभी से हाहाकार मचा हुआ है.कश्मीर के आर्टिकल 370 पर भी अब SC सुनवाई करेगा. BJP का पूरा एजेंडा सर्वोच्च अदालत में है. तीन-तलाक़ और अयोध्या के बाद अब 370.राष्ट्रवादियों के लिए ये बड़ी जीत है.

ये देखें अगस्त महीने की न्यूज़ उस समय जवाब माँगा गया था कोर्ट में !

जानिए धारा 370 क्या है निचे दी गयी तस्वीर में लिखे हैं वो 10 पॉइंट जो धारा 370 को समझाते हैं !

बीजेपी ने जब पीडीपी के साथ जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाई थी तो लोगों के साथ विपक्ष ने इस पर ऊँगली उठाई थी लेकिन जो लोग समझदार थे वो जानते थे मोदी का ये फैसला आगे जाकर क्या गुल खिलाने वाला है और अभी दो दिन पहले मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की तिलमिलाहट सबने देख ही ली है !

जैसे-जैसे राज्यों और राज्यसभा में भाजपा का प्रभाव बढ़ रहा है बैसे ही भाजपा अपने राष्ट्रवादी एजेंडे को आगे बढाती जा रही है.अब जम्मू & कश्मीर से धारा 370 को हटाने की तैयारी शुरू हो चुकी है. इसके लिए सबसे पहले इसके अनुच्छेद 35(A) को बदलने की तैयारी हो रही है जो समस्या की मुख्य बजह है.बड़े तरीके से सारी गेम चली हुई है इस समय कश्मीर में एक गैर सरकारी संगठन से किस तरह इस अनुच्छेद 35(A) के खिलाफ याचिका दर्ज करवाई गयी और अब किस तरह मोदी सरकार इस पर जवाब देगी,बहुत कुछ दिखने वाला है आगे.

बीजेपी ने अब अपना सारा ध्यान संविधान के आर्टिकल 35 (ए) पर लगा दिया है.ये आर्टिकल राज्य विधानसभा को ‘स्थायी निवासियों’ को परिभाषित करने और उन्हें विशेष अधिकार देने की शक्ति प्रदान करता है. यह न केवल कश्मीर के नागरिकों को अलग पहचान देने की कोशिश है, बल्कि इससे कश्मीर और बाकी भारत के बीच राजनीतिक दरार चौड़ी हो रही है.

केंद्र के इस कदम से तिलमिलाई हुई महबूबा ने कहा है कि- यहां की लडाई हमने लडी है हमारे लोग मारे गये हैं, हुरियत ने भी लडी है उनके लोग और हमारे लोग भी मारे गये हैं. अगर हमारे अधिकारों को खतम करने की कोशिश की गई, तो मै ये कहना चाहती हूं कि – तिरंगा झंडा उठाने के लिये 4 कन्धे भी नही मिलेंगे.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि जो हम बता रहे हैं आपको वो मीडिया कभी नहीं बताने वाली मुख्यमंत्री महबूबा का यह बयान यह बताने के लिए पर्याप्त है कि – कार्यवाही किस हद तक चल रही है. महबूबा की स्थिति इस समय सांप छछुंदर वाली हो गई है. भाजपा के साथ गठबंधन करने के कारण उनकी बात को मानना मजबूरी है और अगर नहीं मानते हैं तो उनकी सरकार जायेगी और कुछ भी नहीं कर पाएंगी.बीजेपी और आरएसएस का शुरू से ही राष्ट्रवादी मुद्दा रहा है धारा 370 हटाने का लेकिन बाकि सब पार्टियाँ इस हटाने के खिलाफ हैं क्योंकि उन्हें देश प्रेम नहीं है.

आपको बता दें जिस दिन बीजेपी अर्तिक्ल 35A में बदलाव करवाने में कामयाब रही उस दिन धारा 370 पर बीजेपी का सीधा बार होगा बीजेपी के इन इरादों का पता चल चूका है पुरे कश्मीर वाशियों को लेकिन अब उनके पाले से गेम निकल चुकी है.

Image result for मोदी धारा 370

अगर अब महबूबा मुफ़्ती खुलकर इसका विरोध करती है तो सरकार गिरना तय है जबकि सरकार गिरने की स्थिति में जम्मू & कश्मीर में राष्ट्रध्यक्ष शासन लगाकर केंद्र का वहां पर पूरी तरह से नियंत्रण हो जाएगा. उस समय भाजपा को अपना एजेंडा लागू करने से कोई रोक भी नहीं पायेगा. भाजपा केवल इतना चाहती है कि – गठबंधन तोड़ने का इल्जाम उसपर नहीं बल्कि पीडीपी पर आये.

गुजरात, उड़ीसा, हिमाचल, कर्नाटक चुनाव के सकारात्मक चुनाव परिणाम आने के बाद कश्मीर में और तेजी आयेगी. तब तक केंद्र अपनी तैयारी कर रहा है. महबुबा की छटपटाहट से तो यही पता चलता है कि – उनको भी समझ आने लगा है कि -अब क्या होने वाला है .

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here