रयान मर्डर केस : जज ने सुनवाई से पहले सुनाया ऐसा फैसला कि प्रद्युम्न के माँ-बाप समेत देश रह गया हैरान !!

0
235

रयान इंटरनेशनल स्कूल की लापरवाही अब धीरे-धीरे खुल कर सामने आ रही है. यहां की कक्षा 2 में पढ़ने वाले प्रद्युम्न की मौत के बाद से ही स्कूल के बच्चे डरे सहमे हुए हैं. इसकी वजह स्कूल के टीचर्स और स्टाफ का रवैया है. हालत ये हो गई है कि कई बच्चों ने स्कूल तक जाने से इनकार कर दिया है. लेकिन अब जब अपराधी जा चूका है तो फिर कोर्ट उसे सजा सुनने में इतनी आना कानी क्यों कर रही है.

Image result for पिंटो फैमिली

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि गुड़गांव के प्रद्युम्न मर्डर केस में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के एक जज जस्टिस एबी चौधरी ने रेयान इंटरनेशनल स्कूल के ओनर रेयान पिंटो, ग्रेस पिंटो और ऑगस्टीन पिंटो की इंटेरिम बेल पिटीशन पर सुनवाई से इनकार कर दिया है. जस्टिस चौधरी ने कहा कि वे पिटीशनर्स को निजी तौर पर जानते हैं, इसलिए वे इस केस में सुनवाई नहीं कर सकते. ऐसे में अब इस केस को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की अलग बेंच के पास ट्रांसफर किया जाएगा.

 जस्टिस चौधरी ने सुनवाई से पहले क्यों किया इनकार !!

Image result for पिंटो फैमिली

  • रयान ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो, उनके पिता ऑगस्टीन पिंटो और मां ग्रेस पिंटो ने पिछले हफ्ते पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट को अप्रोच किया था और अग्रिम जमानत दिए जाने की मांग की थी.
  • मंगलवार को जस्टिस चौधरी की बेंच में बेल पिटीशन की सुनवाई होनी थी, जिसपर उन्होंने सुनवाई से इनकार कर दिया है.
  • रेयान ट्रस्टीज की तरफ से पैरवी कर रहे अर्शदीप सिंह चीमा ने बताया कि अब बेल पिटीशन पर सुनवाई दूसरी बेंच में होगी. हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका 16 सितंबर को लगाई गई थी.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने खारिज की पिटीशन और SC में अपील के लिए दिया था वक्त !!

  • 14 सितंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीनों ट्रस्टीज को अग्रिम जमानत की दिए जाने की पिटीशन खारिज कर दी थी. पिंटो फैमिली ने गिरफ्तारी से बचने के लिए ये पिटीशन लगाई थी.
  • बॉम्बे हाईकोर्ट ने पिंटो फैमिली से कहा था कि उन्हें सिर्फ 15 सितंबर तक गिरफ्तारी से छूट दी जा रही है, वह भी तब जब वे अपना पासपोर्ट जमा करा दें.
  • इसके बाद पिंटो फैमिली ने चंडीगढ़ हाईकोर्ट में बेल पिटीशन लगाने का फैसला किया था.
  • बॉम्बे हाईकोर्ट ने पिंटो फैमिली को सुप्रीम कोर्ट में अपील के लिए शुक्रवार शाम 5 बजे तक का वक्त दिया था.

Image result for प्रद्युम्न फोरेंसिक रिपोर्ट

बताते चलें कि 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या के 9 दिन बाद सोमवार को रयान स्कूल खोला गया है. हालांकि, प्रद्युम्न की क्लास में तो सिर्फ 4 बच्चे आए थे. वहीं कुछ पेरेंट्स अपने बच्चों की टीसी लेने पहुंचे. हरियाणा सरकार ने तीन महीने के लिए इस स्कूल का टेक ओवर किया है. अभी उसकी देखरेख में ही इसे चलाया जाएगा.
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here