1 करोड़ 11 लाख कर्मचारियों को मोदी ने दिया अनमोल तोहफा :10 लाख से सीधा 20 लाख, झूम उठे लोग !

0
131

मोदी सरकार आए दिन भारतवासियों को कोई न कोई तोहफा देती रहती है. इस बार भी सरकार ने लाखों केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनधारियों को तोहफा देते हुए महंगाई भत्ता चार से बढ़ाकर पांच प्रतिशत कर दिया है. केंद्र ने अपने कर्मचारियों तथा पेंशनभोगियों का महंगाई भत्ता (डीए) एक प्रतिशत बढ़ाकर पांच प्रतिशत कर दिया है. इस फैसले से उसके 50 लाख कर्मचारियों तथा 61 लाख पेंशनभोगियों को लाभ होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंगलवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया है.

Image result for PM मोदी का दिवाली गिफ्ट

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि मूल्यवृद्धि से राहत के लिए मूल वेतन-पेंशन पर डीए की एक प्रतिशत बढ़ी हुई किस्त जारी की जाएगी. महंगाई भत्ते की नई दरें एक जुलाई से लागू होंगी. चालू वित्त वर्ष की आठ माह की अवधि जो कि जुलाई 2017 से फरवरी 2018 के दौरान महंगाई भत्ता और महंगाई राहत डीआर से सरकार पर क्रमश 3,068.26 करोड़ रुपये तथा 2,045.50 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा. इस कदम से केंद्र सरकार के 49.26 लाख कर्मचारियों तथा 61.17 लाख पेंशनभोगियों को लाभ मिलेगा.

नौकरी करने वालों की ग्रैच्युटी लिमिट 10 से बढ़कर 20 लाख रुपए !!

गौरतलब है कि कैबिनेट ने पेमेंट ऑफ ग्रैच्युटी (संशोधन) बिल, 2017 को संसद में पेश करने की मंजूरी दी. इसके तहत सरकार ग्रैच्युटी पर टैक्स छूट सीमा को दोगुना करना चाहती है. अब तक 10 लाख रुपये से अधिक राशि की ग्रैच्युटी पर टैक्स लगता रहा है लेकिन अब ग्रैच्युटी पर छूट की सीमा को 20 लाख रुपये तक की जा सकती है. इसके अलावा कंपनियां 5 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करने पर भी एंप्लॉयीज को यह लाभ देती हैं.

बताते चलें कि मौजूदा पेमेंट ऑफ ग्रैच्युटी ऐक्ट, 1972 के तहत सरकारी एंप्लॉयीज को मिलने वाली ग्रैच्युटी की राशि पर टैक्स में छूट मिलती है यानी सरकारी कर्मचारियों को ग्रैच्युटी पर कोई टैक्स नहीं देना होता. दूसरी तरफ गैर-सरकारी कर्मचारियों को रिटायरमेंट पर मिलने वाली ग्रैच्युटी की 10 लाख रुपये तक की राशि पर कोई टैक्स नहीं लगता है लेकिन इसके बाद टैक्स चुकाना होता है.
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here