विडियो : सप्ताह के इन दो दिनों में कटवाएँगे बाल और नाख़ून,तो बरसेगा धन ही धन !

0
100

ज्‍योतिष विषय वेदों जितना ही प्राचीन है.प्राचीन काल में ग्रह, नक्षत्र और अन्‍य खगोलीय पिण्‍डों का अध्‍ययन करने के विषय को ही ज्‍योतिष कहा गया था.इसके गणित भाग के बारे में तो बहुत स्‍पष्‍टता से कहा जा सकता है कि इसके बारे में वेदों में स्‍पष्‍ट गणनाएं दी हुई हैं.फलित भाग के बारे में बहुत बाद में जानकारी मिलती है।

आज सभी लोग नाख़ून काटने या फिर सर के बाल काटने से पहले हजार बार सोचते हैं की आज कौन सा दिन है आज बाल काटें या नहीं ? उन सभी को इसका जवाब आज निचे दी गयी विडियो में मिल जाएगा.आखिर किस दिन हमें नाख़ून और बाल काटने चाहिए ताकि हमें उसका फायदा भी मिले.अनेक प्रणालियों, परम्पराओं (tradition) या विश्वासों (belief) में अंक विद्या, अंकों और भौतिक वस्तुओं या जीवित वस्तुओं के बीच एक रहस्यवाद (mystical) या गूढ (esoteric) सम्बन्ध है।

प्रारंभिक गणितज्ञों जैसे पाइथागोरस के बीच अंक विद्या और अंकों से सम्बंधित शकुन लोकप्रिय थे, परन्तु अब इन्हें गणित का एक भाग नहीं माना जाता और आधुनिक वैज्ञानिकों द्वारा इन्हे छद्म गणित (pseudomathematics) की मान्यता दी जाती है। यह उसी तरह है जैसे ज्योतिष विद्या में से खगोल विद्या और रसविद्या (alchemy) से रसायन शास्त्र का ऐतिहासिक विकास है।

आज, अंक विद्या को बहुत बार अदृश्य (occult) के साथ-साथ ज्योतिष विद्या और इसके जैसे शकुन विचारों (divinatory) की कलाओं से जोड़ा जाता है। इस शब्द को उनके लोगों के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है जो कुछ प्रेक्षकों के विचार में, अंक पद्धति पर ज्यादा विश्वास करते हैं, तब भी यदि वे लोग परम्परागत अंक विद्या को व्यव्हार में नहीं लाते।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here