शिवरात्रि पर भूलकर भी ना करें यह काम, अन्यथा झेलना पड़ेगा भगवान शिव का प्रकोप !

0
172

भोलेनाथ के बारे में ऐसा कहा जाता है कि भोलेनाथ जी मन के बहुत ही भोले हैं वह अपने भक्तों से बहुत जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं.

भोलेनाथ के बारे में ऐसा कहा जाता है कि भोलेनाथ जी मन के बहुत ही भोले हैं वह अपने भक्तों से बहुत जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं परंतु हम आपकी जानकारी के लिए बता दें भगवान शिव जी जितनी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं उनका गुस्सा भी बहुत प्रलयंकारी आता है शिवपुराण में ऐसा बताया गया है कि यदि व्यक्ति ऐसे पाप कर्म करता है तो भगवान शिव उसे कभी भी माफ नहीं करते हैं  आज हम आपको बनेंगे कि वह कौन से कार्य हैं जिससे भगवान शिव जी के प्रकोप का भागी होना पड़ता है आइए जानते है उन कार्यों के बारे में…

जैसे कि किसी अन्य व्यक्ति की संपत्ति को गलत तरीके से हड़पना इससे भगवान शिव जी क्रोधित होते हैं। और किसी दूसरे व्यक्ति के धन को पाना या फिर उसे धोखे से अपना बनाने की कोशिश करना इसको भी भोलेनाथ की नजरों में अपराध और पाप माना जाता है.

शिवपुराण में यह बात भी बताई गई है कि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति का बुरा नहीं करता परंतु उसके प्रति अपने मन में बुरे विचार रखता है तो ऐसे व्यक्ति को भी भगवान शिवजी पाप का भागीदारी मानते हैं। ब्राह्मण या मंदिर की चीजें चुराना इनको की पाप की श्रेणी में रखा जाता है.

दूसरे के पति या पत्नी पर बुरी नजर डालने वाला व्यक्ति या फिर उसे प्राप्त करने की इच्छा करना भी पाप की श्रेणी में आता है। जो धर्म के अनुसार मना की गई चीजों को खाना या फिर धर्म के विपरीत जाकर कोई काम करना भगवान भोलेनाथ की नजर में अपराध होता है.

किसी गर्भवती महिला या मासिक धर्म के दौरान किसी महिला को गलत शब्दों को कहना या फिर ऐसी कोई बात कहना जिससे उसको दुख पहुंचे ऐसे व्यक्तियों को भी भगवान शिवजी की नजरों में क्षमा ना करने योग्य पाप होता है। किसी सीधे साधे इंसान को पीड़ा देना और उसके रास्ते में समस्याएं बाधाएं उत्पन्न करने का प्रयत्न करने वालों के प्रति भी शिव जी नाराज होते हैं और उन लोगों को शिवजी के प्रकोप  को भी झेलना पड सकता है.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here