क्यों है पंचामृत के बिना आपकी पूजा अधूरी है ? भूलकर भी न लगायें चरणामृत …

0
170

पंचामृत के बिना आपकी पूजा अधूरी है जानिए इसका रहस्य…

चरणामृत दो अक्षरों का मेल है, चरण एवं अमृत। यहां चरण शब्द का संबंध प्रभु के चरणों से है तथा अमृत एक पवित्र जल को दर्शाता है। ऐसा जल जो पहले तो साधारण पानी ही था किन्तु भगवान के चरणों से उसका मेल होने के बाद वह अमृत में तब्दील हो गया।

शास्त्रों के अनुसार पंचामृत को अमृत के समान पवित्र माना जाता है यह गाय का दूध, दही, मिश्री, शहद और घी. इन पाँचों वस्तुओं को एक विशेष अनुपात में मिलाकर बनाया जाता है.चरणामृत का महत्व सिर्फ धार्मिक ही नहीं चिकित्सकीय भी है। चरणामृत का जल हमेशा तांबे के पात्र में रखा जाता है। आयुर्वेदिक मतानुसार तांबे के पात्र में अनेक रोगों को नष्ट करने की शक्ति होती है जो उसमें रखे जल में आ जाती है। उस जल का सेवन करने से शरीर में रोगों से लडऩे की क्षमता पैदा हो जाती है तथा रोग नहीं होते।

इसमें तुलसी के पत्ते डालने की परंपरा भी है जिससे इस जल की रोगनाशक क्षमता और भी बढ़ जाती है। तुलसी के पत्ते पर जल इतने परिमाण में होना चाहिए कि सरसों का दाना उसमें डूब जाए। ऐसा माना जाता है कि तुलसी चरणामृत लेने से मेधा, बुद्धि, स्मरण शक्ति को बढ़ाता है। इसीलिए यह मान्यता है कि भगवान का चरणामृत औषधी के समान है। यदि उसमें तुलसी पत्र भी मिला दिया जाए तो उसके औषधीय गुणों में और भी वृद्धि हो जाती है।

कहते हैं सीधे हाथ में तुलसी चरणामृत ग्रहण करने से हर शुभ काम या अच्छे काम का जल्द परिणाम मिलता है। इसीलिए चरणामृत हमेशा सीधे हाथ से लेना चाहिये, लेकिन चरणामृत लेने के बाद अधिकतर लोगों की आदत होती है कि वे अपना हाथ सिर पर फेरते हैं। चरणामृत लेने के बाद सिर पर हाथ रखना सही है या नहीं यह बहुत कम लोग जानते हैं? दरअसल शास्त्रों के अनुसार चरणामृत लेकर सिर पर हाथ रखना अच्छा नहीं माना जाता है। कहते हैं इससे विचारों में सकारात्मकता नहीं बल्कि नकारात्मकता बढ़ती है। इसीलिए चरणामृत लेकर कभी भी सिर पर हाथ नहीं फेरना चाहिए।””

पंचामृत और चरणामृत कभी भी चेहरे में न लगायें | आस्था से इसको प्रभु का प्रसाद मानकर दाहिने हाथ से लेकर सेवन करें | औषधीय गुणों से भरपूर यह अमृत तुल्य है इससे शरीर निरोगी, पुष्ट और कांतिमय तो बनता ही है एक दिव्यता की भी अनुभूति होती है | सुनिए गोपाल राजू से चरणामृत और पंचामृत का मूलभूत अन्तर और इसका सार-सत |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here