घर बनाते समय रखें इन ख़ास बातों का ध्यान !! कही आपके घर के आस पास भी ये तो नही ….

0
311

     “घर बनाते समय हम कई चीजें प्लान करते हैं”

घर का डिजाइन, घर में कितने बड़े कमरे हों, सीढ़ियां कैसी हों, खिड़कियां किस ओर हों, दीवारों पर रंग कैसा कराएं, इत्यादि। लेकिन हिन्दू शास्त्रों में से एक वास्तु शास्त्र के अनुसार घर बनवाते समय केवल डिजाइन या रंग ही नहीं, दिशाओं का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। क्योंकि गलत दिशाएं घर में वास्तु दोष उत्पन्न कर, घर की खुशियां छीन लेती हैं। इसलिए घर के मुख्य दरवाजे की दिशा से लेकर बेडरूम और रसोईघर-बाथरूम किस दिशा में हो इसका ध्यान रखें।

वास्तु शास्त्र वास्तु दोष मुक्त घर बनाने के लिए पूर्ण नक्शा देने में सक्षम है। लेकिन इसके अलावा किस जमीन पर घर बनाना सही रहेगा, यह भी वास्तु शास्त्र के निर्देशों में से अहम निर्देश है। दरअसल गलत जमीन पर घर या ऑफिस भी बना लेने से पूरी इमारत वास्तु दोष से भर जाती है। ऐसे घर के सदस्यों में मानसिक परेशानियां और आपसी झगड़े रहते हैं।

वास्तु दोष से युक्त जमीन पर ऑफिस बना लेने से व्यापार चलने से पहले ही ठप पड़ जाता है।इसलिए वास्तु शास्त्र के अनुसार यह आवश्यक है कि घर या ऑफिस बनाने से पहले, जमीन का वास्तु भांप लिया जाए।  जहां घर बनाने जा रहे हैं कहीं उसके नीचे कभी श्मशान तो नहीं होता था?

जी हां श्मशान वास्तु शास्त्र के अनुसार श्मशान वाली जमीन के ऊपर या उसके आसपास भी मकान बनाना, खुद अपने पांव पर कुल्हाड़ी मारने के बराबर है। ऐसा घर कभी भी खुशहाल नहीं बन सकता। लेकिन घबराने जैसी कोई बात नहीं है, वास्तु शास्त्र में जीवन की हर मुश्किल का हल है। किसी जगह या घर में वास्तु दोष है या नहीं इसे जांचने की और फिर उसका उपाय भी खोज निकालने में सक्षम है यह वास्तु शास्त्र का विज्ञान।

वास्तु शास्त्र की राय में भूखंड, यानी कि आपकी जमीन का वास्तु दोषों से मुक्त होना बेहद जरूरी है। भूखंड के आसपास भी कोई ऐसी वस्तु नहीं होनी चाहिए, जो नकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हो। ये चीजें घर को अशुभ प्रभाव देती हैं। वास्तु शास्त्र में घर के समीप श्मशान का होना भयंकर दोष माना गया है। जन्म लेना और फिर मृत्यु को प्राप्त होना, यह जीवन का अटल सत्य है। सभी को इस दौर से गुजरना ही है, किंतु मृत्यु का नाम तक लेना मनुष्य को असंतुलित कर देता है।

मृत्यु या इससे जुड़ी कोई भी चीज व्यक्ति की मानसिक स्थिति पर प्रभाव डालती है। वास्तु शास्त्र की राय में यदि श्मशान के आसपास भी घर बना लिया जाए, तो कई प्रकार की परेशानियां उत्पन्न होती हैं। सबसे पहली बात यह कि श्मशान से हर पल नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है, जो किसी को भी मानसिक रूप से कमजोर बना सकती है।

घर के समीप श्मशान की स्थिति घर में रहने वाले सदस्यों में डर एवं भय का संचार करती है। श्मशान के पास घर होने से प्रतिदिन शव देखने के कारण मनुष्य में शोक का संचार रहेगा। शोक से हृदय में नकारात्मक प्रभाव बढ़ता है। शोक का एहसास बार-बार होने से मनुष्य के अंदर वैराग्य की भावना भी जन्म ले सकती है। घर के अंदर इस प्रकार की भावना के संचार से तथा प्रतिदिन रोते लोगों को देखने से घर में रहने वाले बच्चों के बालसुलभ मन पर प्रभाव पड़ सकता है।

इतना ही नहीं, ऐसे घर में रहने वाले बच्चों में कई प्रकार की शंकाएं उत्पन्न हो सकती हैं।  जिस उम्र में उन्हें हंसते-खेलते रहना है, उस उम्र में वे मानसिक तनाव का शिकार होने लगते हैं। घर का निर्माण व्यक्ति सुखपूर्वक जीवनयापन करने के लिए करता है परंतु श्मशान घर के पास होने से सुख का स्थान दुख ले लेता है। लेकिन ये बातें महज कहने तक की नहीं है, विज्ञान ने भी श्मशान के पास घर होने से उत्पन्न होने वाली परेशानियों को माना है।

श्मशान में प्रतिदिन शव को जलाने से उत्पन्न होने वाली चर्बी की दुर्गंध से आस-पास का वातावरण प्रभावित होता है। प्रदूषित वातावरण घर में रहने वाले सदस्यों को प्रभावित करता है।केवल शव के कारण ही नहीं, श्मशान में शव के साथ आने वाले जनसमूह के कारण भी आस-पास के घरों की शांति भंग होती है।

कुछ वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि यदि मजबूरी में कभी श्मशान के पास घर लेना भी पड़े, तो यह घर श्मशान से कम से कम 300 मीटर की दूर पर ही स्थित होना चाहिए।

इसके अलावा कुछ वास्तु उपाय अपना कर भी घर और परिवार को श्मशान से मिलने वाले बुरे प्रभाव से बचाया जा सकता है। सबसे आसान उपाय तुलसी के पौधे का बताया गया है, जिसके अनुसार घर के बाहर प्रवेश द्वार के दोनों ओर तुलसी का पौधा लगा लेना चाहिए। तुलसी पवित्र पौधा है, इसके होने से नकारात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश नहीं करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here