मोदी राज में बाहुबली और श्रीदेवी समेत ये 24 दुर्लभ मूर्तियां लौटी भारत, अब केवल 13 मूर्तियां शेष !!

0
89

भारत अपनी पौराणिक संस्कृति और सभ्यता के लिए विश्व भर में मशहूर है. लाखों की तादाद में हर साल विदेशी पर्यटक भारत की संस्कृति को देखने और साथ ही उसके ऊपर रिसर्च करने आते है. लेकिन प्राचीन काल में मुसलमानों और अंग्रेजों के समय हुई लूट ने भारतीय धरोहर को बखेर के रख दिया है. लेकिन भारत में बीजेपी के सत्ता और नरेंद्र मोदी के प्रधनमंत्री बनते ही 2014 से अब तक विदेशों से 24 प्राचीन वस्तुएं लाई गयी हैं जिनमें चोल शासकों के समय की श्रीदेवी की धातु की प्रतिमा और मौर्य काल की टेराकोटा की महिला की मूर्ति शामिल हैं.

13 मूर्तियां लाना बाकी

कहां से लाए कितनी मूर्तियां !!

बता दें कि आरटीआई से यह बात सामने आई है कि कुल 24 प्राचीन चीजों में से 16 चीजें अमेरिका से, 5 ऑस्ट्रेलिया से और एक-एक चीजें कनाडा, जर्मनी और सिंगापुर से लाई गई हैं. आरटीआई की मानें तो 2014 में पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद से अब तक यानी 2017 तक इन देशों ने अपनी इच्छा से ही ये प्राचीन वस्तुएं भारत को लौटा दी हैं.

कहां से लाए कितनी मूर्तियां?

मोदी राज में स्वदेश लौटी भारतीय धरोहर कुछ इस प्रकार !!

  • अमेरिका से वापस लाई गई वस्तुओं में तिमालनाडु के चोल वंश की श्रीदेवी की प्रतिमा और बाहुबली की धातु की प्रतिमा शामिल है.
  • इसके साथ-साथ अमेरिका ने मौर्य काल की टेराकोटा की महिला की मूर्ति, दुर्गा की पत्थर की प्रतिमा, नृत्य की भाव-भंगिमा में नटराज की पत्थर की एक प्रतिमा आदि भी भेजी हैं.

Image result for भारतीय धरोहर 24 प्राचीन मूर्तियां ला चुकी है

  • एएसआई के मुताबिक संत मन्निक्कावचाका की कांस्य प्रतिमा, गणेश और पार्वती की धातु की प्रतिमाएं भी अमेरिका से वापस आई हैं.
  • आस्ट्रेलिया ने बैठे हुए गौतम बुद्ध की एक मूर्ति, नटराज और अर्द्धनारीश्वर की प्रतिमाएं भेजी हैं.
  • सिंगापुर से उमा परमेश्वरी की, कनाडा से एक पैरट लेडी की और जर्मनी से जम्मू कश्मीर से ताल्लुक रखने वाली दुर्गा की प्रतिमाएं वापस भेजी गयी हैं.

अब केवल 13 मूर्तियों को भारत वापस लाना है बाकी !!

Image result for भारतीय धरोहर 24 प्राचीन मूर्तियां ला चुकी है

गौरतलब है कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अनुसार अभी भी प्राचीन काल की 13 ऐसी एंटीक वस्तुएं हैं, जिन्हें स्विटजरलैंड समेत अन्य दूसरे देशों से भारत में लाया जाना बाकी है. सरकार के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा है कि मोदी सरकार उन एंटीक वस्तुओं को भारत में वापस लाने पर जोर दे रही है, जिन्हें यहां से चुरा कर विदेशों में ले जाया गया था.

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here